शेयर मार्किट क्या है | what is the share market in Hindi

हेलो दोस्तों एक बार फिर आप सभी का स्वागत है हमारी वेबसाइट पर जहां पर आज हम जानेंगे जो ऑनलाइन पर बहुत ही ज्यादा ट्रेंडिंग में रहने वाला विषय है शेयर मार्केट जी हां दोस्तों आज लोगों की बुनियादी जरूरतें सिर्फ और सिर्फ पैसे के द्वारा ही पूरी की जा सकती है ।

 

दोस्तों आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम अपने परिवार मित्रों यहां तक कि अपने बच्चों को भी बहुत ही कम या ना के बराबर समय दे पाते हैं इसका कारण है हम अपने परिवार के लिए बहुत ही मुश्किल से ज्ञान के और सही दिशा के अभाव में धन को बड़े ही कम अनुपात में अर्जित कर पाते हैं, आज मैं इसी विषय पर चर्चा करने के लिए आप सभी के सामने यह लेख प्रस्तुत कर रहा हूं, दुनिया में बहुत से लोग हैं जो धन अर्जित करते हैं लेकिन बड़े ही बुद्धिमानी और तकनीक से बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो धन तो कमाते हैं लेकिन धन से धन बनाना नहीं जानते , धन से धन कमाने के लिए आज हम देखेंगे ऐसे ही बाजार या मार्केट के बारे में जिसका नाम शेयर मार्केट (share market) या शेयर बाजार (share bazaar)है।

 

शेयर मार्केट में निवेश क्यों करें या क्यों करना चाहिए?

 

दोस्तों मेरा यह प्रश्न थोड़ा सा अटपटा जरूर लग सकता है लेकिन किसी भी काम को शुरू करने से पहले आपके मन में यह विचार जरूर आना चाहिए कि उसे क्यों(why) करना चाहिए आपके मन में जो (why) आएगा वही आपको हमेशा आपको आगे बढ़ने की प्रेरणा देगा इसलिए आपका (why) तगड़ा होना चाहिए कोई आपसे पूछ ले क्यों आप शेयर मार्केट में निवेश कर रहे हैं तो आपका (why) ही आपको सामने वाले व्यक्ति के समक्ष बिना डरे खड़ा रखेगा वरना आप अपने आप में भी सोच बैठेंगे कि मैं यहां क्यों कर रहा हूं । WHY का छोटा सा उत्तर जो मैंने सोच रखा है जो मेरे अपने विचार हैं दुनिया में पैसे कमाने के बहुत सारे तरीके हैं

लेकिन इसमें सबसे सिंपल दो ही तरीके हैं जिनमें पहला या तो आप अपनी खुद की कंपनी या व्यापार शुरू करें तथा दूसरा आपके पास पैसे ना होने की स्थिति में किसी कंपनी की हिस्सेदारी अर्थात shares खरीदने चाहिए और कंपनी का हिस्सेदार बन जाना चाहिए जिससे आप कंपनी के को ओनर बन जाएंगे और धन के साथ-साथ कंपनी पर आपका कुछ प्रतिशत मालिकाना हक भी हो जाता है। तो आइए दोस्तों शुरू करते हैं,

 

What is share market?

 

शेयर मार्केट अर्थात जब हम किसी बाजार से किसी वस्तु को खरीदते हैं तब हम उसे सिर्फ खरीद कर अपने घर ले आते हैं और इस्तेमाल करते हैं और वह चीज खत्म हो जाती है लेकिन जब हम शेयर अर्थात हिस्सा हम किसी कंपनी में, किसी कंपनी  की हिस्सेदारी को अपने धन के अनुसार खरीदते हैं तब हम उस कंपनी के हिस्सेदार बन जाते हैं और जिस अनुपात में हम अपना धन उस कंपनी में लगाते हैं उतने प्रतिशत के हम उस कंपनी के हिस्सेदार शेयर धारक (share holder) बन जाते हैं।

इसे एक बहुत ही छोटे व्यावहारिक उदाहरण से समझते हैं मान लीजिए किसी व्यक्ति ने अपनी एक कंपनी खोलने की सोची उसके बाद अब उसे धन की आवश्यकता है तब वह धन को इकट्ठा करने के लिए अपने कंपनी के शेयर अर्थात हिस्से को बेचता है जिससे कि वह कंपनी को चलाने के लिए धन एकत्रित कर सके और लोग जो उस कंपनी के शेयर अर्थात हिस्सेदारी को लेते हैं जिस अनुपात में यदि कंपनी लाभ कमाती है तो लोगों को उसी अनुपात में ( जिस अनुपात में उन्होंने धन लगाया है) उन्हें लाभ की प्राप्ति अर्थात पैसे दोगुने 4 गुने या 10 गुने भी होकर उन्हें मिलते हैं ,इसके विपरीत यदि कंपनी को लॉस अर्थात घाटा उठाना पड़ जाए तो कंपनी के शेयर धारकों (share holder’s) को उसी अनुपात में धन हानि भी हो सकती है।

 

अब दोस्तों हम सीधे किसी कंपनी या आसानी से उस व्यक्ति को नहीं ढूंढ सकते हैं या वह व्यक्ति या कंपनी हमें ढूंढ सकती हैं जिन्हें शेयर होल्डर्स और हमें शेयर खरीदने हो , इसी के लिए एक बाजार बनाया गया है जो हमारे और उस कंपनी के बीच संबंध स्थापित करते हैं,

 

शेयर बाजार जिसमें दो प्रकार के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं एक भारतीय संपूर्ण भारत के स्वामित्व वाली कंपनियां (BSE) में तथा दूसरी भारत के बाहर की भी कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं जिसे NSE कहते हैं

 

दोस्तों शेयर मार्केट या शेयर बाजार, हमारे भारत में इसके दो मार्केट हैं एक BSE (Bombay stock exchange) और दूसरा NSE (National Stock Exchange) है।

 

Bombay stock exchange मैं संपूर्ण भारत के अर्थात internal शेयर की हिस्सेदारी को बेचा या खरीदा जाता है।

 

मुख्यता शेयर मार्केट दो प्रकार के होते हैं:—

 

1:—प्राइमरी शेयर मार्केट

2:—सेकेंडरी शेयर मार्केट

 

1:—Primary share Market (प्राइमरी शेयर मार्केट);–दोस्तों कंपनियां जिन्हें अपनी कंपनी की हिस्सेदारी बेचनी होती है वह सबसे पहले अपनी कंपनी के शेयर, शेयर मार्केट में स्टॉक एक्सचेंज मे listing करके अपने शेयर बेचती है लेकिन उसे IPO या initial public offering लेना पड़ता है जिसके बाद ही कंपनी निश्चित किए हुए मूल्य पर अपने शेयर को पब्लिक के लिए उपलब्ध करवाती है

 

किसी कंपनी को अपने शेयर्स के लिए आईपीओ यानी इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग लेने जाते समय उसे अपने शेयर्स की सही जानकारी जैसे उसकी कीमत, फाइनेंशियल, प्रमोटर्स इत्यादि की जानकारी देनी होती है

 

Stock exchange जैसे NSE,BSE और Broker के माध्यम से कंपनियां प्राथमिक बाजार के माध्यम से निवेशकों तक पहुंचती हैं।

 

Secondary Share Market(द्वितीयक शेयर मार्केट):–दोस्तों जब हम और आप शेयर मार्केट में पैसे लगाने की बात या शेयर मार्केट में शेयर अर्थात हिस्सेदारी खरीदने की बात करते हैं तो हम असल में द्वितीयक शेयर मार्केट की बात ही करते हैं क्योंकि यही पर कंपनियों की शेयर्स की लिस्ट होती है जिसमें हम broker के माध्यम से सीधे खरीद व बेच सकते हैं

 

यहीं पर दोस्तों एक शेयर की कीमत को तय किया जाता है जिसके माध्यम से ही आप आसानी से प्रति शेयर नंबरिंग के हिसाब से ले सकते हैं और उसी आधार पर खरीद बिक्री होती है यहां पर उस शेयर की खरीद बिक्री उस नियत समय में उसी कीमत पर होती है जिस कीमत पर वह इतनी समय खरीदा या बेचा गया हो, यही पर उस शेयर के फायदे और नुकसान तय हो जाते हैं।

 

यहीं पर कोई व्यक्ति अपने शेयर्स को उसी रियल टाइम में जिस समय वह उसे बेच रहा है किसी दूसरे व्यक्ति को उसी कीमत पर बेचकर शेयर मार्केट से बाहर निकल सकता है।

 

Account Opening अकाउंट ओपनिंग :- जैसा कि अब आप लोग शेयर मार्केट के बारे में कुछ जान गए होंगे तो इसके बाद की प्रक्रिया में सबसे पहले आपको शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए अपना एक डीमैट अकाउंट ओपन करना होगा जिसके लिए आपको आपका आधार कार्ड , पैन कार्ड तथा एड्रेस प्रूफ की जरूरत होगी डीमैट अकाउंट दोस्तों वह अकाउंट होता है जो आपके शेयर मार्केट में लेनदेन की संपूर्ण गतिविधियों को रखता है जिसे आप अपने बैंक अकाउंट से लिंक करा कर अपना पैसा डिमैट अकाउंट से अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करके निकाल सकते हैं, डीमैट अकाउंट शेयर मार्केट में बहुत जरूरी है यह बड़ी आसानी से ऑनलाइन माध्यम से मुश्किल से 10 से 15 मिनट में बन जाता है बिना डीमैट अकाउंट के शेयर मार्केट की किसी भी गतिविधि शेयर को खरीद या बेच नहीं सकते है।

 

Right share choice :– , दोस्तों शेयर मार्केट में आपकी शेयर यानी हिस्सेदारी की सही चॉइस बहुत ही जरूरी है अभी आप  duration वाले उदाहरण में दिखेंगे कि बच्चे जो कि उन्होंने शेयर खरीदे चॉकलेट, टॉफी, बिस्किट के जो वह खुद खाते थे क्योंकि वह उसके खुद उपभोक्ता थे इसलिए उन्हें पता था chocolate biscuit इत्यादि सामान्यता बच्चे खाते ही हैं इस प्रकार आमीन उन्हीं प्रोडक्ट या कंपनी कैसे अर्थ को खरीदना चाहिए जिनके जिनसे हम किसी न किसी रूप से जुड़े हुए हो और वह चीज लोगों की बुनियादी जरूरत हो जो किसी ना किसी हालत में भी continuous सतत बिकती रहती है।

 

Duration:-दोस्तों शेयर मार्केट में समय ड्यूरेशन बहुत ही जरूरी है हर व्यक्ति जब किसी से सुनता है कि कोई व्यक्ति शेयर मार्केट में खूब पैसे कमा रहा है तो वह सोचता है कि वह भी अपने पैसे शेयर मार्केट में लगाएगा और रातों-रात उसके पैसे 2 गुना 3 गुना 10 गुना 50 गुना बढ़ जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं है दोस्तों यह भी आपको रिटर्न देता है लेकिन उतनी तेजी से नहीं जितना आप सोचते हैं या आपको रिटर्न देने में कुछ समय लेता है यदि आपकी शेयर चॉइस अच्छी है तब आपको यह आपके लगाए हुए धन के अनुपात में रिटर्न देता है जिसने भी लगभग 1 से 2 वर्ष कम से कम तथा अधिक से अधिक 5 वर्ष में आप के धन को दोगुना कर देता है

 

इसे एक बार एक उदाहरण से समझते हैं एक बार एक छोटी सी प्रतिस्पर्धा हुई जिसमें क्लास 5th के बच्चे तथा बड़े-बड़े चार्टर्ड अकाउंटेंट को शेयर खरीदने के लिए कहा गया जिसमें 5 साल बाद जब उनके रिटर्न को देखा गया तो बच्चों के शेयर ने उन्हें कहीं अधिक रिटर्न दिया था सर आप सोचिए कि बच्चों ने किस के शेयर खरीदे होंगे मैं बताता हूं दोस्तों बच्चों ने कैडबरी डेयरी मिल्क , टॉफी जैसे प्रोडक्ट के शेयर खरीदे थे क्योंकि वह उस प्रोडक्ट को खुद यूज़ करते थे जो उन्हें बेहतर से बेहतर रिटर्न दिया क्योंकि वह उसके खुद उपभोक्ता थे और उपभोक्ता ही वस्तु का अच्छा-बुरा उसके इस्तेमाल के बाद मूल्यांकन करता है।

 

How to Invest in Share Market ?शेयर बाजार में निवेश कैसे कर सकते हैं?

 

दोस्तों अगर शेयर बाजार मैं निवेश की बात की जाए तो आप इसमें निवेश करने के लिए ऑनलाइन माध्यम में बहुत सारे तरीके हैं के माध्यम से आप तुरंत अपना एक डीमैट अकाउंट खोलकर शेयर मार्केट की स्थिति को भली-भांति देखकर कि किस कंपनी के शेयर्स उसके प्रोडक्ट के आधार पर ऊपर उठ रहे हैं या बढ़ने की संभावना है तो आप उसमें निवेश कर सकते हैं हालांकि कुछ पॉइंट्स है जो मैं यहां देने जा रहा हूं जिसे आपको शेयर बाजार में निवेश करने से पहले जरूर पढ़ना चाहिए।

 

  • जब भी शेयर बाजार में गिरावट हो तो आपको बड़ी कंपनियों के शेयर्स को बहुत ही ध्यान से ऑब्जर्व करना चाहिए साथ ही साथ उसके शेयर के उतार-चढ़ाव के बीच के समय अवधि को भी ध्यान से अवलोकन करे।

 

  • किसी भी स्टॉक को खरीदने या बेचने के लिए आपको ब्रोकर की जरूरत होती है आपको उसके पास शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले दो खाते डिमैट अकाउंट तथा ट्रेडिंग अकाउंट बना लेना चाहिए जिसके माध्यम से आप शेयर मार्केट में निवेश कर सकते हैं जिसके लिए आपको सिर्फ आधार पैन कार्ड तथा एड्रेस प्रूफ की जरूरत होती है।

 

  • दोस्तों शेयर बाजार में अगर आप निवेश करते हैं तो सबसे पहले आप शेयर्स की स्थिति को भली-भांति समझ ले शेयर बाजार की स्थिति को अच्छे से अवलोकन करें शेयर बाजार में पैसे लगा देना ही बड़ी बात नहीं होती है एक अच्छी जानकारी होने के साथ-साथ आपको शेयर बाजार की जरूरी समझ भी होनी चाहिए नहीं तो आपको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

 

  • शेयर मार्केट एक ऐसा मार्केट है जिसमें आपको रिस्क लेने के लिए भी तैयार रहना होता है हालांकि शेयर मार्केट की अच्छी समझ और एक से ज्यादा कंपनियों में निवेश आपको कम से कम वित्तीय जोखिम प्रदान करता है यदि आप एक से अधिक कंपनियों के शेयर खरीदते हैं जो कि सही ढंग से आपको एक निश्चित प्रतिशत मात्रा में रिटर्न दे रहा है तो आपका जोखिम बहुत ही कम हो जाता है।

 

दोस्तों मुझे अब लगता है कि आप सभी को हमारी यह पोस्ट पढ़कर शेयर मार्केट के बारे में जो भी डाउट आपके मन में रहे होंगे वह अब क्लियर हो गए होंगे हमारी इस पोस्ट में केवल और केवल आपको शेयर मार्केट का सामान्य परिचय देना उद्देश्य था शेयर मार्केट से संबंधित और भी अन्य तथ्यों के साथ संपूर्ण जानकारी हम आपको आगे अपनी आने वाली पोस्ट में देंगे जो आपको शेयर मार्केट में निवेश करने तथा शेयर मार्केट को भली-भांति प्रकार से समझने में बहुत ही अधिक मददगार साबित होगी शेयर मार्केट में बहुत सारे कीवर्ड्स (keywords)  होते हैं जो आपको जरूर जानने चाहिए जिसकी जानकारी एकदम डीप में हम आपको अपनी अगली पोस्ट में देंगे।

और भी पढ़े: मार्केटिंग क्या है और इसको आप कैसे कर सकते है?

 

Leave a Comment