Search Engine Kya Hai विस्तार से जाने इन 2021

Dosto  बहुत बार क्या होता है की अगर आपको कोई दिक्कत आती है या आपको किसी बारे में सर्च करना होता है तो आ सीधे ही गूगल पर जाकर सर्च कर लेते है या आजकल अगर आपको किसी बारे में प्रैक्टिकल तरके से जानकारी लेनी होती है तो आप यूट्यूब का सहारा लेते है।

तो क्या आपके मन में सवाल आया होगा की ये दोनों क्या है और अपने और भी जैसे याहू या बिंग का यूज़ भी आप चीजों को सर्च करने के लिए करते होंगे तो आप मैं आपको बताऊंगा की Search Engine Kya Hai और आप इसका ठीक तरीके से यूज़ कैसे कर सकते है।

इन सभी यूज़ करकर अपने इंटरनेट ने समस्याओं का हल तो निकाल लिया, परंतु उसके बाद भी कुछ समस्याएं बाकी थी जैसे किसी भी सवाल का जवाब आसानी से कैसे प्राप्त किया जा सके। कुछ समय बाद इस समस्या के समाधान के लिए सर्च इंजन के रूप में एक नया आविष्कार किया गया। तो चलिए जान लेते हैं किस प्रकार सर्च इंजन की खोज की गई और सर्च इंजन क्या है और किस प्रकार से यह कार्य करता है?

Search Engine Kya Hai|what is a search engine in Hindi-

सर्च इंजन एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जिसका यूज़ करकर आप किसी भी वेबसाइट पर अपनी प्रॉब्लम का सोल्युशन प्राप्त कर सकते है दोस्तों अगर  हम जो भी चीज ढूंढना चाहते हैं या फिर ढूंढते हैं उसके अनुसार सर्च इंजन द्वारा हमें कई सारे विकल्प प्रदान किए जाते हैं उनमें से जो हमें सबसे अधिक उत्तम लगता है हम उसी उत्तर पर जाकर अपनी खोज खत्म कर लेते हैं और अपनी खोज से जुड़ी सभी जानकारियां आसानी से प्राप्त कर पाते हैं।

कोई भी सर्च इंजन अगर आपको कोई ही रिजल्ट देता है तो उसके पीछे उसका बहुत बड़ी अल्गोरिथम काम कर रही होती है जिसका यूज़ करकर ही वो आपको टॉप और बेस्ट रिजल्ट आपको दिखता है।मुख्य लोकप्रिय सर्च इंजन के नाम गूगल, याहू, यूट्यूब एमएसएन है।

सर्च इंजन की हिस्ट्री क्या है ?

दोस्तों जो भी इस समय आप ऑनलाइन टेक्नोलॉग यूज़ कर रहे है वो टेक्नोलॉजी एक दिन में नहीं बनती है ऐसे ही सर्च इंजन का इतिहास भी एक दिन में नहीं बनता है

सर्च इंजन भी  90 के दशक की बात की जाए तो उस समय में इंटरनेट और सर्च इंजन जैसी कोई भी सुविधाएं मौजूद नहीं थी। और ोगो को सर्च इंजन के बारे में पता भी होता था उस समय सर्च इंजन बनने की शुरुआत हो चुकी थी और आज तक जो भी सर्च इंजन कम्पनिया है वो अपने आप को बेहतर बनाने के लिए काम कर रही है और अपने आप को इम्प्रूव कर रही है।

कॉलेज के दिनों में कई सारे प्रोजेक्ट विद्यार्थियों के ज्ञान और उनकी समझ को जानने के लिए उन्हें दिए जाते हैं, कुछ इसी प्रकार का प्रोजेक्ट कॉलेज में पढ़ने वाले उन छात्रों को दिया गया था, जिन्होंने इस प्रोजेक्ट के नाम पर ही सर्च इंजन का आविष्कार कर डाला। उनका नाम अलेन एमटगे था। जी हां उन्होंने एक कॉलज प्रोजेक्ट के चलते ही सर्च इंजन का आविष्कार कर डाला।

सर्च इंजन कैसे काम करता है-

तो दोस्तों Search Engine Kya Hai इस बात को जानने के बाद आपको ये भी पता होना चाहिए की सर्च इंजन काम कैसे करता है तभी आपके लिए बहुत ही अच्छा होगा क्योकि अधूरा ज्ञान किसी भी काम का नहीं होता है।

तो सर्च इंजन भी काम अच्छा करने के लिए दो या दिन प्रोसेस में अपना काम करता है तो मैं इसको आपको समझने की कोशिस करता हूँ तो

  • तो सबसे पहले हो भी इंटरनेट पर जो भी कंटेंट डा जाता है उसको सर्च इंजन crowl करता है जिसको हम क्रोलिंग कहते है इसको मैं आपको और भी आसान बनाने के लिए आपको और थोड़ा आसान भासा में समझने की कोसिस करता हूँ , तो जैसे ही अपने कोई भी कंटेंट इंटरनेट पर पब्लिश किये वैसे ही जो भी सर्च इंजन के क्रोएलर होते है वो आपकी वेबसाइट पर आते है और उस कंटेरंट को जचते है।
  • अब जब आपका कंटेंट क्रोवल हो जाता है तब अब उसकी होती है इंडेक्सिंग ,indexing का मतलब होता है की जैसे ही क्रौलर आपके कंटेंट को जचता है अब वो आपके कंटेंट को अपने जो भी उसकी डायरेक्टरी होती है उसको उसमे सेव कर लेता है ताकि जब उसको उसकी जरुरत हो तो वो उस पर काम कर सके।
  • जब ये दोनों प्रोसेस हो जाती है तो इसके बाद decide होती है रैंकिंग तो हर सर्च इंजन के कुछ पैरामीटर होते है जिन पर वो आपके कंटेंट को चेक करता है और उनको अनलयस करता है और जो भी उसको चेक करने के बाद लगता है की ये आपकी पोस्टिव होनी चाहिए इस कीवर्ड पर वो आपको रैंक दे देता है।

सर्च इंजन के प्रकार (Search Engine Ke Prakar)-

तो जैसे की मैंने पहले ही आपको बता दिया था की जो पहला सर्च इंजन था उसको स्टूडेंट ने अपने प्रोजेक्ट के दौरान ही बना दिया था पर जो भी ये सर्च इंजन था इस सर्च इंजन में ज्यादा फीचर्स नहीं थे तो अब बड़ी बड़ी कंपनियों ने इस टेक्नोलॉजी पर काम करना शुरू कर दिया और बाद में इसको और बेहतर बनाने पर जोर दिया।

एक्साइट (Excite) :- एक्साइड का निर्माण सन 993 में किया गया। परंतु इसको सार्वजनिक करने में पूरा साल लग गया। इसलिए साल 994 में एक्साइड को सार्वजनिक रूप से एक कंपनी के तौर पर घोषित कर दिया गया। उस समय यह इंटरनेट पर सबसे अधिक माने जाने वाला ब्रांड बन चुका था। इस इंजन का निर्माण भी कॉलेज के ही कुछ विद्यार्थियों द्वारा एक कॉलेज प्रोजेक्ट की तरह ही किया था, जिसने आगे चलकर सन 995 में क्रॉलिंग सर्च इंजन का रूप ले लिया था।

याहू (Yahoo:- याहू का नाम तो आपने आमतौर पर सुना ही होगा और आप इसका इस्तेमाल रोज़मर्रा के कामों में करते भी होंगे। याहू का जन्म सन 994 में हुआ था।

गूगल (Google) :- गूगल का नाम तो आज के समय में हर कोई जानता है। आज यह अरबों खरबों की कंपनी बन चुकी है। इसका आविष्कार भी दो पीएचडी स्टूडेंट्स के हाथों से हुआ था। इस इंजन की खोज करने वाले व्यक्तियों का नाम सेर्गेई ब्रिन और लैरी पेज था, वे दोनों ही स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफ़ोर्निया के एक कॉलेज में पढ़ते थे। जिन्होंने कॉलेज प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए ही गूगल का आविष्कार किया था।

Youtube –

यूट्यूब भी आज के समय में बहुत ही बड़ा सर्च इंजन है और ये दुनिये का दूसरा बड़ा सर्च इंजन है ये एक वीडियो प्लेटफार्म है जिसमे आप जो भी कंटेंट सर्च करते है वो वीडियो की फोम में मिलता है।

यूट्यूब का अविष्कार Jawed करीम ने 2005 में किया था और आज ये बहुत ही लोकप्रिय बन चूका है।

अंतिम विचार

दोस्तों अगर आप ने ये आर्टिकल यहाँ तक पढ़ा है तो Search Engine Kya Hai इस सवाल का जवाब आपको मिल गया होगा अगर अब भी आपके Search Engine Kya Hai से जुड़े सारे सवालो के जवाब आपको मिल गए होंगे। अगर अब भी आपके Search Engine Kya Hai या What is Search Engine in hindi से जुडी हुई कोई भी समस्या है तो आप उसको हमसे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। आपका हमारे Search Engine क्या है? इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको What is Search Engine in hindi आर्टिकल पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों या परिवार वालो के साथ शेयर भी कर सकते है।

और भी पढ़े: ईमेल मार्केटिंग क्या है और इसको आप कैसे कर सकते है?

 

 

 

Leave a Comment